34 मैचों में 12 शतक..100 की औसत..BCCI की नाइंसाफी का शिकार हुआ भारत का ब्रेडमैन, रोहित-द्रविड़ पर भड़के फैंस

बीसीसीआई ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ (India vs Australia) दो टेस्ट के लिए भारतीय टीम की घोषणा कर दी है. भारत के टी20 फॉर्मेट के बादशाह सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) को इस टीम में को मौका दिया गया है. सूर्या के सलेक्शन के बाद ट्विटर पर जमकर चर्चा हो रही है.

फैंस का मानना है कि सूर्या की जगह टीम सरफराज खान (Sarfaraz Khan) बेहतर आप्शन होते. मुंबई के दायें हाथ के बल्लेबाज सरफराज के फर्स्ट क्लास क्रिकेट में आंकड़े इस बात की गवाही दे रहे हैं. सरफराज खान पिछले कुछ वर्षों से निरंतर घरेलू क्रिकेट में रनों का अम्बार लगा रहे हैं.

गौरतलब है कि 2019 के बाद रणजी ट्रॉफी में सरफराज का प्रदर्शन चरम पर रहा है. दायें हाथ के बल्लेबाज सरफराज खान ने मुंबई की तरफ से खेलते हुए फर्स्ट क्लास क्रिकेट में शतकों की झड़ी लगा दी हैं. 2020 से अब तक सरफराज खान ने 34 पारियां खेलीं हैं. इस दौरान सरफराज खान ने 12 शतक जड़े हैं, इस दौरान उनका औसत 108.34 का रहा.

फर्स्ट क्लास क्रिकेटर ने महज 51 पारियों में अपने नाम 12 शतक और 9 अर्धशतक दर्ज कर लिए हैं. रणजी ट्रॉफी 2022-23 सीजन में 25 वर्षीय ने अबतक 5 मैच में 2 नाबाद शतक और 1 अर्धशतक जड़ दिए हैं. इस सीजन में अबतक उनका औसत 89 पहुंच गया है, पिछले तीन साल से इस खिलाड़ी ने 100 से ऊपर औसत से रन बनाए हैं.

सरफराज खान के इन आंकड़ो को देखने के बाद सोशल मीडिया पर फैंस काफी नाराज हैं. कई यूजर्स का मानना है कि टेस्ट फॉर्मेट के लिए इस प्रदर्शन के बाद किसी खिलाड़ी को मौका नहीं मिलता है तो यह शर्मनाक है. फर्स्ट क्लास क्रिकेट में मुंबई के बल्लेबाज सरफराज का औसत 80 के पार पहुंच गया है. मुंबई के बल्लेबाज सरफराज के नाम इस दौरान तीन डबल और एक ट्रिपल सेंचुरी भी है.

फर्स्ट क्लास क्रिकेट में सरफराज के औसत से भारत के दिग्गज खिलाड़ी पीछे छूट चुके हैं. सरफराज ने अपनी बल्लेबाजी से क्रिकेट के भगवान सचिन और किंग कोहली को भी पीछे छोड़ दिया है. सचिन का औसत 57.84 का रहा जबकि कोहली ने 50.08 के औसत से रन बनाए हैं. सूर्यकुमार यादव की बात करें तो उनका औसत 75 मैच में 44.75 का रहा है. सरफराज से आगे केवल डॉन ब्रैडमैन हैं जिन्होंने 95.12 के औसत से फर्स्ट क्लास क्रिकेट में रन बनाए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page