आतिफ असलम ने इस्लाम की खातिर छोड़ा गाना! बोले- अब रूहानी आवाज सिर्फ अल्लाह के…

पाकि’स्तान के शानदार सिंगर आतिफ असलम का नाम आते ही ज़हन में उनके खूबसूरत गीत गूंजने लगते हैं. हाल ही में आतिफ असलम को लेकर ऐसी अटकलें लगाई गयीं कि वह म्‍यूजिक इंडस्‍ट्री को छोड़ सकते हैं. अब इन अफ’वाहों का उन्होंने खुद जवाब दिया है. आतिफ ने कहा, ‘म्‍यूजिक इंडस्‍ट्री को छोड़ने का टॉपिक बेहद व्यक्तिगत है लेकिन मैं दुनिया का हिस्‍सा होते हुए खुद को अपने धर्म से जुड़ा रखना चाहता हूं. मैं नहीं कहूंगा कि मैं पूरी तरह से म्‍यूजिक छोड़ रहा हूं लेकिन मैं धर्म के जरूरी पहलुओं को हाइलाइट करना चाहता हूं जैसे अल्‍लाह के 99 नाम और ताजदार-ए-हरम. मैं यह जानकर खुश होता हूं कि युवा न सिर्फ मेरा म्‍यूजिक सुनते हैं बल्कि इन चीजों के प्रति भी उनका झुकाव हो रहा है.

Atif Aslam recorded a song on video callपाकि’स्‍तान में कोरोना वायरस के पहुंचने के बाद इंटरनेट पर अजान को लेकर हाल ही में काफी चर्चा हुई. इस बारे में बोलते हुए आतिफ ने कहा, ‘मैंने सुना था कि हमारे मोहम्मद साहब के समय में लोग अपनी छतों पर जाकर अजान करते थे. वहीं से आइडिया आया और बिना दूसरी बार सोचे मैंने इसके बारे में ठान लिया.’ सिंगर ने आगे कहा, ‘इसे रिकॉर्ड करने के एक दिन पहले मैं रात को सो नहीं पाया. मैं उत्सुकता को रोक नहीं पा रहा था. उस फीलिंग को शब्‍दों में बयां नहीं किया जा सकता है. मैंने कभी नहीं सोचा था कि मुझे इस तरह का मौका मिलेगा.

Havent released 150 songs : Atif aslamआतिफ की हालिया पेशकश ‘अस्मा-उल-हुस्ना’ कोक स्‍टूडियो परफॉर्मेंस को दुनियाभर में सराहा गया. इस बारे में उन्‍होंने कहा, “जिंदगी में हम कई सारी चीजें करते हैं, कुछ पुण्‍य कुछ पाप. मैं बेहद खुशनसीब था कि ताजदार-ए-हरम परफॉर्म कर पाया और खुद को बहुत सौभाग्‍यशाली मानता हूं कि मुझे अस्मा-उल-हुस्ना परफॉर्म करने का मौका मिला. नाम लेने के दौरान जो फीलिंग्‍स मुझे हुईं, उन्‍हें बयां नहीं कर सकता हूं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page