दूसरे टी20 में भारत का मिली करारी शिकस्त, ये 3 खिलाड़ी बने हार की वजह

Advertisement
4

सेंट किट्स में खेले गए दूसरे टी20 मुकाबले में वेस्टइंडीज ने भारत को 5 विकेट से हरा दिया. इसके जीत के साथ ही 5 मैचों की सीरीज़ में वेस्टइंडीज ने 1-1 की बराबरी कर ली है. भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 138 रन बनाए. 139 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी वेस्टइंडीज ने 4 गेंद रहते ही 5 विकेट से जीत दर्ज कर ली. ओबेद मकॉय को शानदार गेंदबाजी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया.

Advertisement

Image

Advertisement

इस मुकाबले में वेस्टइंडीज ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया. इस फैसले को ओबेद मकॉय ने सही साबित किया और पहली ही गेंद पर कप्तान रोहित को पवेलियन भेज दिया. अपने दूसरे ओवर की पहली गेंद पर मकॉय वे सूर्यकुमार यादव को भी चलता कर दिया. श्रेयस अय्यर एक बार फिर फ्लॉप रहे और 10 रन बनाकर अलजारी जोसेफ का शिकार हुए. ऋषभ पंत, हार्दिक पंड्या और रवींद्र जडेजा ने मिलकर भारत को 100 के पार पहुंचाया. इसके बाद कोई भी बल्लेबाज़ नहीं टिक सका और पूरी टीम 19.4 ओवर में 138 रनों पर सिमट गई.

Image

Advertisement

अश्विन और आवेश की हुई कुटाई
139 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी वेस्टइंडीज की शुरुआत अच्छी रही और ब्रैंडन किंग ने काइल मेयर्स के साथ मिलकर 6 ओवर में बिना किसी नुकसान के 46 रन जोड़ दिए. पॉवरप्ले के बाद पहली ही गेंद पर हार्दिक पंड्या ने अश्विन के हाथों मेयर्स को कैच करवा दिया. इसके बाद निकोलस पूरन और शिमरॉन हेटमायर को अश्विन-जडेजा ने पवेलियन की राह दिखा दी. लेकिन डेवेन थॉमस के साथ मिलकर ब्रैंडन किंग ने वेस्टइंडीज की जीत की राह आसान कर दी. आवेश खान ने बोल्ड तो कर दिया लेकिन वो इतना रन लुटा चुके थे कि भारत की वापसी मुश्किल हो गई थी.

IND vs SA | I would like to dedicate it to my dad: Avesh Khan after his best T20I performance in India colours - Sports News

रोवमेन पॉवेल को अर्शदीप ने क्लीन बोल्ड कर भारत को 5वीं सफलता दिलाई लेकिन तब तक मैच भारत की मुठ्ठी से निकल चुका था. इस मैच में अश्विन ने 4 ओवर में 32 रन खर्च किए, तो आवेश खान ने 2.2 ओवर में ही 31 रन दे दिए. अगर ये दोनों थोड़े किफायती रहते, तो शायद मैच की नतीजा कुछ और होता. सीरीज की तीसरा मुकाबला इसी मैदान पर 2 अगस्त को खेला जाएगा.

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page