बिना दूल्हे के लड़की ने खुद से की शादी, गोवा में मनाएंगी हनीमून

Advertisement

यह शायद देश का पहला मामला होगा जब एक 24 साल की लड़की ने बिना दूल्हे के खुद से शादी की है. मंडप सजा था, बाराती भी थे और दुल्हन ने सात फेरे लेकर अपने आप से सोलो मैरिज (Solo Marriage) की. क्षमा की शादी में परिजन थे, मेहमान थे, दोस्त थे पर सिर्फ दूल्हा नहीं था. क्षमा का कहना है कि गुजरात में शायद ये पहली सेल्फ मैरिज या सोलोगैमी होगी. यह मामला गुजरात के बड़ोदरा का है. 24 साल की क्षमा बिंदु (Kshama Bindu), ने कुछ दिन पहले सोशल नेटवर्क के माध्यम से ऐलान किया कि वह “सोलोगामिया” (Sologamy) नामक एक प्रथा से खुद से शादी करने जा रही हैं. 24 साल की क्षमा बिंदु सोलोगामिया प्रथा के तहत बुधवार को शादी के बंधन में बंध गई. क्षमा बिंदु ने कहा कि आखिरकार एक विवाहित महिला बनकर वह बहुत खुश हैं.

Advertisement

गुजरात के बडोदरा में बुधवार को क्षमा बिंदु ने बिना दूल्हे के खुद से शादी की. क्षमा ने बताया कि शादी समारोह में हिंदू रिती रिवाज के मुताबिक सब कुछ था. क्षमा बिंदु के परिजन, करीबी दोस्तों ने शादी समारोह में हिस्सा लिया. शादी को डिजिटल रूप में संपन्न किया गया. समारोह में क्षमा बिंदु ने लाल शादी की पोशाक पहन रखी थी, उसके हाथों को मेंहदी से रंगा गया था.

Advertisement

बता दें कि पंडित ने इस शादी को संपन्न कराने से इनकार कर दिया था. क्षमा बिंदु शायद देश की पहली महिला है जिसने खुद से सोलो मैरिज की है.

मैं कभी शादी नहीं करना चाहती थी”

24 वर्षीय क्षमा बिंदु, ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म इंस्टाग्राम पर पर खुद से सोलो मैरिज करने का ऐलान किया था. क्षमा बिंदु के इंस्टाग्राम पर सिर्फ 25,000 से ज्यादा फॉलोअर्स हैं. उन्होंने अपने इस फैसले को इंस्टाग्राम पर अपने दोस्तों के साथ साझा किया. क्षमा बिंदु ने तब कहा था कि मैं कभी शादी नहीं करना चाहती थी, लेकिन मैं एक प्रेमिका बनना चाहता थी इसलिए मैंने खुद से शादी करने का फैसला किया”. क्षमा ने यह पता लगाने के लिए कुछ ऑनलाइन शोध किया कि क्या देश में किसी महिला ने खुद से शादी की है, लेकिन उसे कोई नहीं मिला. उसने कहा, शायद मैं अपने देश में आत्म-प्रेम का एक उदाहरण स्थापित करने वाली पहली लड़की हूं.

Advertisement

क्या है “सोलोगैमी”

वडाडोरा में जन्मी 24 साल की युवती क्षमा बिंदु को यह फैसला लेने के लिए सोलोगेमियां नाम की प्रथा के बारे में जानकारी हासिल करनी पड़ी. क्षमा ने इसके बारे में पहले गहराई से जांच की और उसके तमाम पहलुओं की जानकारी हासिल की और फिर खुद से ही शादी करने का फैसला किया. जब उसने उसकी जांच की तो बिंदू ने महसूस किया कि दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देशों में से एक में रहने के बावजूद, वह उस देश में पेटेंट कराए गए “सोलोगैमी” का पहला मामला होगा.क्षमा ने मीडिया से बातचीत में कहा कि वह “शायद मैं अपने देश में आत्म-प्रेम का एक उदाहरण स्थापित करने वाली पहली महिला हूं,”

शादी के बाद हनीमून के लिए जाएंगी गोवा

क्षमा ने बताया कि वह शादी के बाद हनीमून पर वह गोवा जाएंगी. क्षमा के इस अलग फैसले में खास बात यह है कि उनके परिवार को क्षमा के इस फैसले पर कोई आपत्ति नहीं है. क्षमा ने कहा कि कुछ लोग आत्म-विवाह को अप्रासंगिक मान सकते हैं. उन्होंने कहा कि, उनके माता-पिता खुले विचारों वाले हैं और उन्होंने उनकी शादी को अपना आशीर्वाद दिया है.

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page