इन घरों में अल्लाह का क़हर कभी भी नाज़िल हो सकता है, हज़रत अली ने एक खुतबे में फ़रमाया…

Advertisement

एक मुसलमान होने के नाते आपको ये अच्छी तरह से पता होगा की इस्लाम के नियम काफी सख्त और बारीक होते हैं.

जहाँ छोटे से छोटे काम के बदले नेकी मिलती है वहीं छोटी सी गलती भी इन्सान के पतन का कारण बन जाती है. यहाँ हर किसी को बराबर हक देने की बात कही गयी है. तो गलती से भी किसी दुसरे शख्श का दिल दुखाना भी मना किया गया है.

Advertisement
Advertisement

वैसे तो गलती की माफी का ज़िक्र भी आता है. लेकिन अल्लाह के रास्ते और नबी ए करीम के बताये रास्ते पर चलते हुए हमें इस दुनिया का सफ़र तय करना है.

एक रिवायत में बताया गया है कि एक खुत्वे के दौरान हज़रत अली ने फ़रमाया था कि इन तीन घरों में अल्लाह का कहर कभी भी नाज़िल हो सकता है, जो अल्लाह को सख्त नफरत है इन तीन घरों से जिस घर में औरत की आवाज पुरुष की आवाज से ऊपर (तेज) हो जाए उस घर को 70000 फरिश्ते सारा दिन कोसते रहते हैं. जिस घर में किसी के हक का छीना हुआ हो.

Advertisement

नंबर तीन है कि जिस घर के लोगों को मेहमानों का आना पसंद नहीं.

हज़रत जिबरील फरमाते है उस घर की न,माज़ों का सवाब फरिश्ते लिखा नहीं करते. आपको बता दें इस्लाम एक एकेश्वरवादी धर्म है, जो इसके अनुयायियों के पास अल्लाह के अंतिम रसूल और नबी मु,हम्मद द्वारा मनुष्यों तक पहुंचाई गई. जो अंतिम ईश्वरीय पुस्तक क़ुरआन की शिक्षा पर आधारित है.

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *